वैक्सीनेशन में दुनिया का 'विश्व गुरू' बनने की ओर भारत, प्रधानमंत्री कल शुरू करेंगे महाअभियान

कोरोना संक्रमण के प्रबंधन और नियंत्रण के मद्देनजर कल यानी 16 जनवरी से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सुबह 10:30 बजे अभियान का शुभारंभ करेंगे। सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में टीकों की पर्याप्त खुराकें भेज दी गई हैं.

स्वास्थ्यकर्मियों को पहले लगेगा टीका

टीकाकरण के पहले चरण देश भर के निजी और सरकारी स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगेगा, सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में टीकों की पर्याप्त खुराकें भेज दी गई हैं. पहले चरण में एक करोड़ स्वास्थ्य कर्मियों और पहली पंक्ति में खड़े दो करोड़ कर्मियों को मुफ्त में टीका लगाया जाएगा। इसके बाद 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 50 साल से कम उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा। इस तरह लगभग 27 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा।

ऐप से होगी निगरानी

सरकार ने टीकाकरण के लिए कोविन ऐप बनाया है, कोविन एक इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म है, जिस पर वैक्सीनेशन से जुड़ा सारा डेटा उपलब्ध होगा। ये वैक्सीन लगवाने वालों को ट्रैक करेगा और उन्हें वैक्सीन साइट्स की जानकारी, तारीख और समय बताएगा। वैक्सीनेशन से पहले और बाद की प्रक्रियाओं की निगरानी भी करेगा। यहां भारत में लगाई जाने वाली वैक्सीन का पूरा डिटेल होगा। आम जनता के लिए कोविन एप अभी उपलब्ध नहीं है, आम जनता अभी इस पर रजिस्टर नहीं कर सकती है।

बता दे कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने गाइडलाइन में कहा है कि गर्भवती महिलाओं को अभी तक किसी भी टीके के क्लिनिकल ट्रायल का हिस्सा नहीं बनाया गया है। लिहाजा गर्भवती महिलाओं को अभी वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी. वैक्सीन केवल 18 या उससे ज्यादा उम्र के लोगों को लगाई जाएगी।

मीडिया छात्र