राष्ट्रीय युवा सांसद समारोह में बोले पीएम मोदी :राजनीतिक वंशवाद लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुश्मन है

सौरभ शेखर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दूसरे राष्ट्रीय युवा सांसद समारोह के समापन कार्यक्रम को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि राजनीतिक वंशवाद लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुश्मन है और इसे खत्म करने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्र निर्माण, राष्ट्रवाद और मानवता की सेवा पर विवेकानंद के विचारों से हमें प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि लोग स्वामी जी के प्रभाव में आते हैं, संस्थाओ का निर्माण करते हैं और फिर उन संस्थाओ से निकले लोग स्वामी जी के विचारों को दूसरों तक पहुंचाते हैं। संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने नई शिक्षा नीति का भी जिक्र किया उन्होंने कहा कि युवाओं को नई शिक्षा नीति के द्वारा प्रदान किये गये लचीलेपन और मौलिक शिक्षण प्रारूप का लाभ उठाना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने युवाओं को राजनीति में योगदान करने के लिए प्रेरित किया, उन्होंने कहा कि युवाओं को निस्वार्थ भाव के साथ रचनात्मक तरीके से राजनीति में अपना योगदान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि युवाओं ने बेहतर प्रदर्शन और ईमानदारी से राजनीति की चली आ रही धारणा को बदला है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए युवा राजनीति में आएं। अब केवल सरनेम के दम पर चुनाव जीतने के दिन लद चुके हैं। प्रधान मंत्री ने जोर देकर कहा कि यह स्वामी विवेकानंद थे जिन्होंने राष्ट्र की नींव के रूप में आत्मविश्वास, स्पष्ट-हृदय, निडर और साहसी युवाओं को पहचाना।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार स्वामी विवेकानंद के विचारों पर अमल करते हुए फिट इंडिया मूवमेंट और योग को बढ़वा दे रही है। भुज भूकंप के बाद के पुनर्निर्माण कार्यों का उदाहरण देते हुए, प्रधान मंत्री ने युवाओं से कहा कि जो समाज आपदा में अपना रास्ता बनाना सीखता है, वह अपना भाग्य खुद लिखता है। इसलिए, सभी 130 करोड़ भारतीय आज अपना भाग्य लिख रहे हैं। प्रधान मंत्री ने कहा कि आज के युवाओं द्वारा प्रत्येक प्रयास, नवाचार, ईमानदार प्रतिज्ञा, हमारे भविष्य के लिए एक मजबूत आधार है।

बता दें कि समारोह के दौरान महोत्सव के तीन राष्ट्रिय विजेताओं ने भी अपने विचार रखे इस अवसर पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू और केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद रहें।

मीडिया छात्र